Add

मेरी रचनाएं...

मेरे राजदार समर्थक मित्र बनने का शुक्रिया

बुधवार, 25 मई 2011

रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

 कविता 
रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव 

राहों में जिंदगी के कभी भी 
क्या पता कब कहाँ किस तरह 
तकलीफों का सामना करना पड़े 
दान दे दो थोड़ा सा रंग अपना लाल 
न करो इनकार तुम भी करो ईश्वर का काम .........