Add

मेरी रचनाएं...

मेरे राजदार समर्थक मित्र बनने का शुक्रिया

बुधवार, 25 मई 2011

रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव

 कविता 
रक्तदान ...... नीलकमल वैष्णव 

राहों में जिंदगी के कभी भी 
क्या पता कब कहाँ किस तरह 
तकलीफों का सामना करना पड़े 
दान दे दो थोड़ा सा रंग अपना लाल 
न करो इनकार तुम भी करो ईश्वर का काम .........

3 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक आह्वान ... आपकी दस्तक शायद मेरे ब्लॉग पर पहली बार हुई ... आभार


    कृपया टिप्पणी बॉक्स से वर्ड वेरिफिकेशन हटा लें ...टिप्पणीकर्ता को सरलता होगी ...

    वर्ड वेरिफिकेशन हटाने के लिए
    डैशबोर्ड > सेटिंग्स > कमेंट्स > वर्ड वेरिफिकेशन को नो करें ..सेव करें ..बस हो गया .

    उत्तर देंहटाएं
  2. नमस्कार....
    बहुत ही सुन्दर लेख है आपकी बधाई स्वीकार करें
    मैं आपके ब्लाग का फालोवर हूँ क्या आपको नहीं लगता की आपको भी मेरे ब्लाग में आकर अपनी सदस्यता का समावेश करना चाहिए मुझे बहुत प्रसन्नता होगी जब आप मेरे ब्लाग पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएँगे तो आपकी आगमन की आशा में पलकें बिछाए........
    आपका ब्लागर मित्र
    नीलकमल वैष्णव "अनिश"

    इस लिंक के द्वारा आप मेरे ब्लाग तक पहुँच सकते हैं धन्यवाद्

    1- MITRA-MADHUR: ज्ञान की कुंजी ......

    2- BINDAAS_BAATEN: व्यंगात्मक क्षणिकाएं......


    3- MADHUR VAANI: भारत की चेतावनी......

    उत्तर देंहटाएं
  3. समाज की आवश्यकता के अनुरूप लेख

    कृपया word verification हटा दें

    उत्तर देंहटाएं